top button
    Futurestudyonline Community

कुंडली के ये ग्रहयोग धन को अस्थिर बनाते है।

0 votes
177 views
कुंडली के ये ग्रहयोग धन को अस्थिर बनाते है। हमारी जन्मकुंडली में द्वित्य अर्थात "दूसरा भाव" धन और हमारे पास एकत्रित धन का प्रतिनिधित्व करता है कुंडली का 'बारहवा भाव" व्यय, हानि, खर्चा या अस्थिरता का कारक होता है अतः कुंडली में धन भाव, धनेश तथा द्वादश भाव द्वादशेश के द्वारा कुछ विशेष ग्रहस्थितियां बनने पर व्यक्ति को जीवन में धन की अस्थिरता की समस्या होती है" 1 कुंडली में यदि धनेश (दूसरे भाव का स्वामी) बारहवे भाव में बैठा हो तो ऐसे व्यक्ति के पास कभी धन नहीं रूक पाता और धन की अस्थिरता बनी रहती है। 2 यदि राहु या शनि कुंडली के बारहवे भाव में शत्रु राशि में बैठे हों तो व्यक्ति के पास धन नहीं रूक पाता या अनचाहे खर्चे बहुत होते हैं। 3 धनेश और द्वादशेश का योग भी धन को स्थिर नहीं होने देता। 4 यदि कुंडली के बारहवे भाव में कोई पाप योग (ग्रहण योग, गुरुचांडाल योग, अंगारक योग आदि) बन रहा हो तो ऐसे में भी व्यक्ति धन प्राप्ति के बाद भी धन को अधिक समय तक अपने पास नहीं रोक पाता। 5 बारहवे भाव में यदि कोई पाप ग्रह नीच राशि में हो तो भी धन के नुकसान की समस्या या धन की अस्थिरता की समस्या बनी रहती है। 6 धन भाव में कोई पाप योग बनने या धनेश के नीच राशि में होने पर भी धन की स्थिरता नहीं बन पाती। धन हानि से बचने के उपाय 1 अपनी कुंडली के धनेश (दूसरे भाव के स्वामी) ग्रह के मन्त्र का नियमित कम से कम 3 माला जाप करें। 2 यदि बारहवे या दूसरे भाव में कोई पाप ग्रह हो तो उस ग्रह से सम्बंधित पदार्थो का नियमित दान करना चाहिए। 3 श्री सूक्त का प्रतिदिन पाठ करें।

References

ज्योतिर्विद् अभय पाण्डेय
वाराणसी
9450537461
posted Sep 9, 2017 by anonymous

  Promote This Article
Facebook Share Button Twitter Share Button Google+ Share Button LinkedIn Share Button Multiple Social Share Button

Related Articles
0 votes
शनिवार: इस दिन को गवाए बिना करें ये चीजे, शनिदेव की कृपा बनाएगी राजा नवग्रहों में शनि अत्यंत सुंदर एवं महत्वपूर्ण ग्रह है। यह मंद गति से 30 वर्ष में सूर्य का एक चक्कर पूरा करता है। शनि सूर्य से 88 करोड़ 60 लाख मील तथा पृथ्वी से 79 करोड़ 10 लाख मील दूर स्थित है। लोग इसे अनिष्टकारी ग्रह कहते हैं लेकिन यह अच्छे फल भी प्रदान करता है। शनि का प्रभाव मनुष्य पर व्यापक रूप से पड़ता है, इसका दिन शनिवार है। शनिवार के दिन यह विशेष रूप से अपना प्रभाव डालता है। प्राचीन ग्रंथों में शनिवार के दिन किए जाने वाले अनेक प्रयोगों का वर्णन मिलता है, जो सुख-समृद्धि प्रदान करने वाले तथा रोगों को दूर करने वाले हैं। शनिवार को गवाए बिना करें ये चीजे, शनिदेव की कृपा बनाएगी राजा शनिवार के दिन आधा तोला काले धतूरे की जड़ को कमर में बांधने से बवासीर रोग में बहुत लाभ होता है। इस दिन अपने घर के मुख्य द्वार पर नाव की कील ठोंक दें। सुख-समृद्धि की प्राप्ति होगी। दाएं हाथ की मध्यमा उंगली में विधिपूर्वक लोहे की अंगूठी पहनें। पथरी के रोग में इस उपाय से लाभ होता है। उग्र शनि को शांत करने के लिए इस मंत्र का जाप करें- ऊं ऐं ह्रीं क्लीं शं शनैश्‍चराय नम: शनिवार के दिन अपने घर से मकड़ी के जाले, रद्दी एवं टूटी-फूटी सामग्री आदि हटाने से दुख-दरिद्रता अवश्य दूर होती है। शनिवार के दिन सरसों का तेल तथा काली उड़द का दान करने से समस्त बाधाएं दूर होती हैं और कार्यों में सफलता मिलने लगती है। कृष्णपक्ष के किसी भी शनिवार को नाव की कील से बना लॉकेट गले में पहनने से धन आदि की कमी नहीं होती। शनिवार के दिन बबूल की जड़ को सफेद सूत में लपेटकर रोगी की भुजा में बांधने से शीत ज्वर को नष्ट करने में सहायता मिलती है।
0 votes

प्रेम विवाह के लिए कुंडली में आवश्यक होते हैं ये योग

प्रेम विवाह के लिए कुंडली में आवश्यक होते हैं ये योग

  • want to know more about love marriage book your call here / for mantra also you can book a call to me.....
  •  

आजकल अधिकतर युवा वर्ग ये जानना चाहता है कि उसका प्रेम विवाह होगा या नहीं, अगर आप भी इस प्रश्न का उत्तर जानना चाहते हैं तो अपनी कुंडली में छिपे इस प्रेम विवाह योग के बारे में जानें। अगर आपकी कंडली में प्रेम विवाह योग है तो आपके प्रेम विवाह को कोई नहीं रोक सकता है। चलिए आपको बताते हैं किन योगों के कुडली में होने से प्रेम विवाह होता है...

जन्म कुंडली में विवाह कारक ग्रह पंचम के साथ संबंध बनाता हो अथवा 5 का 2, 7, 11 से संबंध हो तो प्रेम विवाह होता है।

सप्तम भाव का सब लॉर्ड पंचम भाव का प्रबल कार्येश हो तो प्रेम विवाह अवश्य होता है।

जिस जातक के दोनों हाथों पर हृदय रेखा में द्वीप चिन्ह हो और शुक्र रेखा स्वास्थ्य रेखा को काटकर ऊपर जाए, निश्चय ही ऐसे व्यक्ति का अवैध प्रेम संबंध होता है।

जिस जातक के हाथ की हृदय रेखा या बुध क्षेत्र पर जाए, उसका किसी निकट संबंधी या रिश्तेदार से प्रेम संबंध होता है।

 

0 votes
Today I want to share some guidelines to my those callers, who are calling me frequently . I hope these guideines will help them to make their attempts of calling successful. The guidelines are as follows: 1. First of all pls select your question in advance rather before calling. 2. Wait till i am reading your chart.. 3. Pls give me minimum time to read your chart. Horoscope reading is not a very simple matter. We have to give our opinion only after observing different parts of a chart as dasha , transit, divisional charts etc.And that is not possible in a hurry. 4. Moreover, there is an option in future study app that is "ASK A QUESTION " In this section you can write or ask a question to me spending only 200 hundred rupees. I will give you a written prediction there. Hence personally I & our group of astrologers of future study online app are 24×7 ready to solve your any types of problems . Pls call me without hesitation after following the said guidelines. am always ready to solve any of your problems. Thank you very much. VASWATI BAKSIDDHA My Future Study Code (FS-140)
0 votes

Benefits of Nadi Sodhana Pranayama in the light of science Some books quote scientific research endorsing the benefit of Nadi Sodhana Pranayama. We all know this Pranayama strengthens the respiratory and nervous system. It balances Ida and Pingala currents. Ida (feminine in nature) flows vertically along the left side of the spinal column, while Pingala (masculine in nature) flows parallel to Ida on the right side. Sushumna flows in the middle and represents the experience halfway between the two: the ideal state to be achieved right before beginning the practice of meditation. An imbalance between Ida and Pingala is responsible for a lack of introversion-extroversion harmony in many people. Over-functioning of the Ida channel results in introversion, while predominance of the Pingala leads to a state of extroversion. There are four types of brain waves. During deep sleep, delta waves are pre dominant (a high amplitude brain wave with a frequency of oscillation between 0.5 – 4 hertz), and in a doze, the theta waves (4-8 oscillations per sec.) dominate. The brain waves that interest us are the alpha waves (with a frequency range of 7.5 -12.5 hertz).They are mostly present when the person has closed eyes, is mentally relaxed but still awake and able to experience (generally called meditation state).When the eyes are opened, or the person is distracted in some other way, the alpha waves are weakened, and there is an increase of the faster beta waves (13-40 oscillations per sec.). The amount of alpha waves shows to what degree the brain is in a state of relaxed awareness. EEG measurements prove that alpha waves increase during meditation and the amount of alpha waves in each brain half balance out. Now, the more we practice Nadi Sodhana, the more the alpha waves tend to become equal. Nadi Sodhana creates that perfect balance which is the best condition to enter the meditation state and beneficial to lead a peaceful life.

Dear friends, futurestudyonline given book now button (unlimited call)24x7 works , that means you can talk until your satisfaction , also you will get 3000/- value horoscope free with book now www.futurestudyonline.com
...