top button
    Futurestudyonline Community

Ramayan is hindu science

0 votes
4,472 views
अहिंसा परमो धर्मः धर्म हिंसा तथैव चः। धर्मो रक्षति रक्षितः। अर्थात ...... सत्य उद्घाटन : रावण द्वारा सीता हरण करके श्रीलंका जाते समय पुष्पक विमान का मार्ग क्या था ? उस मार्ग में कौनसा वैज्ञानिक रहस्य छुपा हुआ है ? उस मार्ग के बारे में लाखों साल पहले कैसे जानकारी थी ? पढ़ो इन प्रश्नों के उत्तर वामपंथी इतिहारकारों के लिए मृत्यु समान हैं | भारतबन्धुओ ! रावण ने माँ सीता का अपहरण पंचवटी (नासिक, महाराष्ट्र) से किया और पुष्पक विमान द्वारा हम्पी (कर्नाटका), लेपक्षी (आँध्रप्रदेश ) होते हुए श्रीलंका पहुंचा | आश्चर्य होता है जब हम आधुनिक तकनीक से देखते हैं की नासिक, हम्पी, लेपक्षी और श्रीलंका बिलकुल एक सीधी लाइन में हैं | अर्थात ये पंचवटी से श्रीलंका जाने का सबसे छोटा रास्ता है | अब आप ये सोचिये उस समय Google Map नहीं था जो Shortest Way बता देता | फिर कैसे उस समय ये पता किया गया की सबसे छोटा और सीधा मार्ग कौनसा है ? या अगर भारत विरोधियों के अहम् संतुष्टि के लिए मान भी लें की चलो रामायण केवल एक महाकाव्य है जो वाल्मीकि ने लिखा तो फिर ये बताओ की उस ज़माने में भी गूगल मैप नहीं था तो रामायण लिखने वाले वाल्मीकि को कैसे पता लगा की पंचवटी से श्रीलंका का सीधा छोटा रास्ता कौनसा है ? महाकाव्य में तो किन्ही भी स्थानों का ज़िक्र घटनाओं को बताने के लिए आ जाता | लेकिन क्यों वाल्मीकि जी ने सीता हरण के लिए केवल उन्ही स्थानों का ज़िक्र किया जो पुष्पक विमान का सबसे छोटा और बिलकुल सीधा रास्ता था ? ये ठीक वैसे ही है की आज से 500 साल पहले गोस्वामी तुलसीदास जी को कैसे पता की पृथ्वी से सूर्य की दूरी क्या है ? (जुग सहस्त्र जोजन पर भानु = 152 मिलियन किमी - हनुमानचालीसा), जबकि नासा ने हाल ही कुछ वर्षों में इस दूरी का पता लगाया है | अब आगे देखिये... पंचवटी वो स्थान है जहां प्रभु श्री राम, माता जानकी और भ्राता लक्ष्मण वनवास के समय रह रहे थे | यहीं शूर्पणखा आई और लक्ष्मण से विवाह करने के लिए उपद्रव करने लगी विवश होकर लक्ष्मण ने शूपर्णखा की नाक यानी नासिका काट दी | और आज इस स्थान को हम नासिक (महाराष्ट्र) के नाम से जानते हैं | आगे चलिए... पुष्पक विमान में जाते हुए सीता ने नीचे देखा की एक पर्वत के शिखर पर बैठे हुए कुछ वानर ऊपर की ओर कौतुहल से देख रहे हैं तो सीता ने अपने वस्त्र की कोर फाड़कर उसमे अपने कंगन बांधकर नीचे फ़ेंक दिए, ताकि राम को उन्हें ढूढ़ने में सहायता प्राप्त हो सके | जिस स्थान पर सीताजी ने उन वानरों को ये आभूषण फेंके वो स्थान था 'ऋष्यमूक पर्वत' जो आज के हम्पी (कर्नाटक) में स्थित है | इसके बाद | वृद्ध गीधराज जटायु ने रोती हुई सीता को देखा, देखा की कोई राक्षस किसी स्त्री को बलात अपने विमान में लेके जा रहा है | जटायु ने सीता को छुड़ाने के लिए रावण से युद्ध किया | रावण ने तलवार से जटायु के पंख काट दिए | इसके बाद जब राम और लक्ष्मण सीता को ढूंढते हुए पहुंचे तो उन्होंने दूर से ही जटायु को सबसे पहला सम्बोधन 'हे पक्षी' कहते हुए किया | और उस जगह का नाम दक्षिण भाषा में 'लेपक्षी' (आंधप्रदेश) है | अब क्या समझ आया आपको ? पंचवटी---हम्पी---लेपक्षी---श्रीलंका | सीधा रास्ता | सबसे छोटा रास्ता | गूगल मैप का निकला गया फोटो नीचे है | अपने ज्ञान-विज्ञान, संस्कृति को भूल चुके भारतबन्धुओं रामायण कोई मायथोलोजी नहीं है | ये महर्षि वाल्मीकि द्वारा लिखा गया सत्य इतिहास है | जिसके समस्त वैज्ञानिक प्रमाण आज उपलब्ध हैं | इसलिए जब भी कोई वामपंथी हमारे इतिहास, संस्कृति, साहित्य को मायथोलोजी कहकर लोगो को भ्रमित करने का या खुद को विद्वान दिखाने का प्रयास करे तो उसको पकड़कर बिठा लेना और उससे इन सवालों के जवाब पूछना | विश्वाश करो एक का भी जवाब नहीं दे पायेगा | अब इस सबमे आपकी ज़िम्मेदारी क्या है ? आपके हिस्से की ज़िम्मेदारी ये है की अब जब टीवी पर रामायण देखें तो ये ना सोचें की कथा चल रही है बल्कि निरंतर ये ध्यान रखें की ये हमारा इतिहास चल रहा है | इस दृष्टि से रामायण देखें और समझें | विशेष आवश्यक ये की यही दृष्टि हमारे बच्चों को दें, बच्चों को ये बात 'बोलकर' कम से कम एक-दो बार कहें की 'बच्चो ये कथा कहानी नहीं है, ये हमारा इतिहास है, जिसको मिटाने की कोशिश की गई है |' इधर हम आपको नित्य भारत के इतिहास-संस्कृति के वैज्ञानिक प्रमाणों वाली जानकारी उपलब्ध करते रहेंगे | ताकि भारत राष्ट्र संस्कृति बचाने की इस लड़ाई में आपके पास सबूत और प्रमाण हर समय उपलब्ध रहें | --------------------------------------------------

References

Ramayan
posted Apr 14, 2020 by Rakesh Periwal

  Promote This Article
Facebook Share Button Twitter Share Button Google+ Share Button LinkedIn Share Button Multiple Social Share Button

Related Articles
0 votes

Akshaya Tritiya 2018: Significance of the festival Akshaya Tritiya is believed to be one of the most important tithi of the Hindu astrology. Akshaya is a term in Sanskrit that means imperishable, eternal & Tritiya means third. Akshaya Tritiya is celebrated on the third lunar day of the bright fortnight of the spring month of Vaisakha. This auspicious day will be observed this year 18th April 2018. It is said that the sun and the moon become equally bright on this auspicious day. The Sun becomes exalted in Aries & Moon is in Taurus. All learned astrologers know that The Sun & the Moon are the best planets of the zodiac. They are called soul & mind of the natal. In practical life also mother & father play most important role in our life. Their support is the best support. Hence, when there is a best support of parents then who the hell others are. That’s why the trithi is called Akshaya, It is believed that this day brings good fortune and luck in everyone’s life.. On this auspicious tithi or day, most people start new business, buy land or jewellery and invest in something. It is believed to initiate new beginnings on this day in order to bring good fortune and luck. So let’s celebrate this day doing pujan, prayer, donation etc. with a purified mind. Best of luck. Akshaya Tritiya 2018: Festival puja muhurat and timings Auspicious muhurat timings to buy gold: 06:07 am to 12:26 pm Tritiya tithi begins at 3:45 am on 18th April, 2018 Tritiya tithi ends at 01:29 am on 19th April, 2018 This Akshaya Tritiya 2018, celebrate by wishing for luck, happiness and joy in the days to come.

0 votes
Why Lord Shiva is called The Tamas & He’s form is Mahakal ( in scientific manner or approach) When we say about Tamosik in the ultimate & final sense, it is not the trigunas,Satta, Raja & Tama. It’s the highest state beyond tri gunas. “Triguna rohitam Sarbodhi Sakhshivutam.” It’s the great deep, great black and the great deep is so silent; it is so of nothingness; it is so with it’s center everywhere & circumference nowhere. It’s masses infinite. It’s the great darkness whose nature is absolute light & that bcs of the incomprehensibility of the whole thing. If intensified, produces the intense of light. The great deep (Tamas) has the radiant light which conquer the death of death. That’s why Lord Shiva is Tamas, his form is Mahakal. The Krishna bibar, the dark welling mark of creation. It draws/sucking up the whole creation. If we take the example of a normal black hole in the center of it looking in naked singularity is a star which shines with indescribable light. The black hole is very nature of tamas. That’s why Shiva is called the black hole. He is the great crunch. He is the great tamas (darkness), which swallows up relativity, materialism, duality and makes it into the single black hole bcs the space time continuum break down.Satta (brahama), Vishnun(Rajas or may be Satta) Swallowed up into the tamas. After those light has been swallowed up, all light is swallowed up at the point of aggression. It is known as the event horizon. Brahma is white, satta is white; but if the light is swallowed up, then in the singularity of the super massive black hole, there is a shining star of inconceivable light, what is this light which after an infinity & intensity of compression beyond the imagination of the God’s even. Can shine for the light what must be that light. That is the light of Tamas or light of Shiva, Which is absolute darkness. Total darkness is absolute light. If at one moment time & space the sun burst of, countless sun occur.” That was scare sharp eyes to show his shadow”. Think what must be his light. Aham Nirbikalpo Nirakara Rupo, vibhutchya sarvatra sarvendriyaanam, Na Chaa Sangatan Naiva Muktir Na meyah Chidananda Rupah Shivoham Shivoham By Gurunath
Dear friends, futurestudyonline given book now button (unlimited call)24x7 works , that means you can talk until your satisfaction , also you will get 3000/- value horoscope free with book now www.futurestudyonline.com
...