top button
    Futurestudyonline Community

मंगल और राहु की युति । ( मेरी फ्युचर स्टाडि कोड - FS - 140 )

0 votes
323 views
मंगल और राहु की युति कुंडली में मंगल और राहु की युति बहुत ही अशुभ माने जाते हैं। यह संयोजन वासना, अटकलबाजी या जुआ, नशा आदि जैसे अत्यधिक सांसारिक इच्छा को दर्शाता है। इस संबंध के साथ पैदा हुए जातक आमतौर पर एक बहुत ही अनुशासनहीनता और दुर्भाग्यपूर्ण जीवन जीते हैं। लेकिन इस योग की नकारात्मकता का प्रसार लाभकारी ग्रह के साथ संबन्ध ओर लाभकारी ग्रह की ताकत पर निर्भर करेगा। लेकिन मेरी राय के अनुसार यह योग एक व्यक्ति को प्रवृत्ति सेटर बनाता है। Regards VASWATI BAKSIDDHA

References

मंगल और राहु की युति
posted May 10, 2020 by Vaswati Baksiddha

  Promote This Article
Facebook Share Button Twitter Share Button Google+ Share Button LinkedIn Share Button Multiple Social Share Button

Related Articles
0 votes
জীবন থাকলেই সমস্যা থাকবে, সমস্যা থাকলে সমাধানও আছে। জ্যোতিষই হল সেই সমাধান। তাই যেকোনো সমস্যার জন্য তাই আজই Futurestudyonline app ডাউনলোড করে আপনার নাম Register করুন এবং সাথে সাথেই 100 টাকার গিফ্ট ওয়ালেটের সুবিধা নিন। যদি আগেই আপনি এই app ডাউনলোড করে থাকেন তাহলে দয়া করে app টি update করুন এবং আমার গিফট কোড FS140ব্যবহার করে অতিরিক্ত 50 টাকার বোনাস ওয়ালেটের সুবিধা নিয়ে আমার সাথে আপনার সমস্যা সংক্রান্ত আলোচনা করে সমস্যার সমাধান করুন এবং সুস্থ ও সুন্দর জীবন উপভোগ করুন। Futurestudyonline.com সবসময় আপনার সঙ্গে আছে এবং থাকবে। শুভেচ্ছান্তে বাকসিদ্ধা ভাস্বতী
0 votes
Effects of Mars transit into Aquarius Monday 4th May, 2020 at 09:05p.m. planet Mars will transit into Aquarius from Capricorn and it will remain till 18th June 2020 at 08:41p.m. Mars is the Red , rugged , aggressive planet of zodiac. Consequently it will keep deep impact on 12 signs of Zodiac. Now expected results are as follows: ARIES : Mars is in Aquarius means 11th from Aries. An unexpected and speculative earn is expected, specifically from ancestral source. Control your wrath. TAURUS : Be careful , negative proposition may come from your workplace. Restrain your propensity to lording over your boss or higher officials. Ups and downs in any relationship. GEMINI : Anxiety about father's health. Take care of yourself. Stay at home to keep away from Pandemic disease if ascendant or ascendant lord is weak in natal chart. To be continued.... It's a general prediction to know details personal chart need to be judged. By the name of Supreme Lord Acharya Vaswati
0 votes
This video contain Jupiter's transit into Capricorn. Now entire world is in agitation. Will they get relief after Jupiter's transition. Jupiter & Saturn are slow moving planets. They remain in a sign for long days. That's why they keep strong impression in transit results. For this reason i have made my video on natural benefic planet Jupiter's transition. Lets watch my video to confirm about the coming days weather those days will be good or bad. Best wishes. https://youtu.be/j2p5hNuSrYA
0 votes
श्री हरिवंश पुराण महात्म्य मानव जीवन के लिये उपयोगी इस ग्रन्थ का पाठ करने से पूर्व महर्षि वेद व्यास भगवान श्रीकृ,ण, पाण्डुपुत्र अर्जुन एवं ज्ञान की देवी सरस्वती का ध्यान करे । सनातन धर्म के रचियता महर्षि वेद व्यास जिन्होंने इस पुराण की कथा क वर्णन किया, उनके चरण कमलों में सादर वन्दन । अज्ञान के तिमिर में यह प्रकाश ज्योतिरुप सबका कल्याण करे । मैं उन गुरुदेव को नमस्कार करता हूँ । यह अखण्ड मंगलाकार चराचर विश्व जिस परमपिता परमात्मा से व्याप्त है । मैं उनके नमस्कार करता हूँ । उनका साक्षात दर्शन कराने वाले गुरुदेव को नमस्कार करता हूँ । ज्ञानियों ने हरिवंश पुराण को ब्रहृ, विष्णु, शिव का रुप कहा है । यह सनातन शब्द ब्रहमय है । इसका पारायण करने वाला मोक्ष प्राप्त करता है । जैसे सूर्योदय के होने प अन्धकार का नाश हो जाता है, इसी प्रकार हरिवंश के पठन पाठन, क्षवण से मन, वाणी और देह द्घावरा किये गए सम्पूर्ण पाप नष्ट हो जाते है । जो फल अठारह पुराणों के क्षवण से प्राप्त होता है, उतना फल विष्णु भक्त को हरिवंस पुराण के सुनने से मिलता है, इसमें संदेह नहीं है । इसे पढ़ने और सुनने वाले स्त्री, पुरुष, बालक, विष्णुधाम प्राप्त करते है । पुत्रांकाक्षी स्त्री-पुरुष इसे अवश्य सुने । विधिपूर्वक हरिवंश पुराण का पठन-पाठन, सन्तान गोपाल स्तोत्र का एकवर्षीय पाठ अवश्य पुत्ररत्न प्रदान करता है । जो पुरुष या स्त्री चन्द्रमा, सूर्य, गुरु, गुरुधाम, अग्नि की ओर मुख करके मलमूत्र त्याग करता है वह नपुंसक, बांझ होता है । अकारण फल-फूल तोड़ने वाला, सन्तान क्षय को प्राप्त होता है । परस्त्री गमन, बिना पत्नी बनाये क्वांरी कन्या का शीलहरण करने वाला वृद्घावस्था में घोर दुःख पाता है । व्यभिचारिणी स्त्री बुढ़ापे में गल-गलकर मरती है । निन्दनीय र घृणित कर्मी महाशोक को प्राप्त होता है । अतएव श्री हरिवंश पुराण का पारायण कर वह अपना दुख हल्का कर सकता है । हरिवंश पुराण के श्रवण, पाठने से वह दोष दूर हो सकता है । ओम् नमो भगवते वासुदेवाय
0 votes
RAJYA PUJIT RAJYOGA This Rajyoga is usually applicable for female horoscope: This Rajyoga is formed when exalted Mercury placed in Lagna ( this is only possible in Virgo ascendant) & Jupiter takes position in 11th house of the ascendant. According to Sastra this Rajyoga gives name , fame , wealth and her husband will be a respected and affluent person in the society. Fortunately I got an opportunity to judge a horoscope having this yoga. The native is a famous actress. I would mention here that even afflicted Jupiter couldn't minimise the result of this Rajyoga. With regards
Dear friends, futurestudyonline given book now button (unlimited call)24x7 works , that means you can talk until your satisfaction , also you will get 3000/- value horoscope free with book now www.futurestudyonline.com
...