top button
    Futurestudyonline Community

Daily Knowledgeable

0 votes
68 views
#कर्मों_का_फल ! भीष्म पितामह रणभूमि में शरशैया पर पड़े थे। हल्का सा भी हिलते तो शरीर में घुसे बाण भारी वेदना के साथ रक्त की पिचकारी सी छोड़ देते। ऐसी दशा में उनसे मिलने सभी आ जा रहे थे। श्री कृष्ण भी दर्शनार्थ आये। उनको देखकर भीष्म जोर से हँसे और कहा.... आइये देवकी नन्दन।.. आप तो सब जानते हैं, बताइए मैंने ऐसा क्या पाप किया था जिसका दंड इतना भयावह मिला? कृष्ण: पितामह! आपके पास वह शक्ति है, जिससे आप अपने पूर्व जन्म देख सकते हैं। आप स्वयं ही देख लेते। भीष्म: देवकी नंदन! मैं यहाँ अकेला पड़ा और कर ही क्या रहा हूँ? मैंने सब देख लिया ...अभी तक 100 जन्म देख चुका हूँ। मैंने उन 100 जन्मो में एक भी कर्म ऐसा नहीं किया जिसका परिणाम ये हो कि मेरा पूरा शरीर बिंधा पड़ा है, हर आने वाला क्षण ...और पीड़ा लेकर आता है। कृष्ण: पितामह ! आप एक भव और पीछे जाएँ, आपको उत्तर मिल जायेगा। भीष्म ने ध्यान लगाया और देखा कि 101 भव पूर्व वो एक नगर के राजा थे। ...एक मार्ग से अपनी सैनिकों की एक टुकड़ी के साथ कहीं जा रहे थे। एक सैनिक दौड़ता हुआ आया और बोला "राजन! मार्ग में एक सर्प पड़ा है। यदि हमारी टुकड़ी उसके ऊपर से गुजरी तो वह मर जायेगा।" भीष्म ने कहा " एक काम करो। उसे किसी लकड़ी में लपेट कर झाड़ियों में फेंक दो।" सैनिक ने वैसा ही किया।...उस सांप को एक लकड़ी में लपेटकर झाड़ियों में फेंक दिया। दुर्भाग्य से झाडी कंटीली थी। सांप उनमें फंस गया। जितना प्रयास उनसे निकलने का करता और अधिक फंस जाता।... कांटे उसकी देह में गड गए। खून रिसने लगा। धीरे धीरे वह मृत्यु के मुंह में जाने लगा।... 5-6 दिन की तड़प के बाद उसके प्राण निकल पाए। .... भीष्म: नाथ ,आप जानते हैं कि मैंने जानबूझ कर ऐसा नहीं किया। अपितु मेरा उद्देश्य उस सर्प की रक्षा था। तब ये परिणाम क्यों? कृष्ण: तात श्री! हम जान बूझ कर क्रिया करें या अनजाने में ...किन्तु क्रिया तो हुई न। उसके प्राण तो गए ना।... ये विधि का विधान है कि जो क्रिया हम करते हैं उसका फल भोगना ही पड़ता है।.... आपका पुण्य इतना प्रबल था कि 101 भव उस पाप फल को उदित होने में लग गए। किन्तु अंततः वह हुआ।.... जिस जीव को लोग जानबूझ कर मार रहे हैं... उसने जितनी पीड़ा सहन की.. वह उस जीव (आत्मा) को इसी जन्म अथवा अन्य किसी जन्म में अवश्य भोगनी होगी। अतः हर दैनिक क्रिया सावधानी पूर्वक करना चाहिए। कर्मों का फल तो भोगना पड़ेगा !

References

Daily knowledgeable
posted May 21 by anonymous

  Promote This Article
Facebook Share Button Twitter Share Button Google+ Share Button LinkedIn Share Button Multiple Social Share Button

Related Articles
0 votes
https://youtu.be/Ju12X4-w3tw Futurestudy online panel Astrologer are meeting live u can join zoom All information daily we are posting in page 3 मई 2020 को 3 बजे फ्यूचर स्टडी ऑनलाइन डिस्कशन का टॉपिक ज्योतिष शास्त्र में जातक के जीवन में प्रेम, शिeक्षा, संतान, स्टोक मार्केट में लाभ ,पंचम भाव का क्या महत्व हे ज्योतिष द्वारा जानने के लिए जुड़े KNOW THE Love, education, benefit in stock market, children WITH ASTROLOGY 3 मई 2020 दोपहर 3 बजे ,आप जरूर पार्टिसिपेट करे ज़ूम मीटिंग https://us04web.zoom.us/ j/89742100670 मीटिंग आई डी 8974210 0670 फ्यूचर स्टडी ऑनलाइन पैनल के ज्योतिष विद्वान इसमें सभी प्रकार के सवालों का उत्तर देगे, आप फेसबुक पेज पर फॉलो कर सकते है एवम लाइव पार्टिसिपेट करे। मोबाइल एप डाउनलोड करे लिंक https://play.google.com/store/apps/details?id=futurestudyonline.vedicjyotishvidyapeeth www.futurestudyonline.com
0 votes
न धैर्येण विना लक्ष्मी-र्न शौर्येण विना जयः। न ज्ञानेन विना मोक्षो न दानेन विना यशः॥ Money without patience, victory without courage, liberation without knowledge and fame without charity cannot be achieved. *धैर्य के बिना धन, वीरता के बिना विजय, ज्ञान के बिना मोक्ष और दान के बिना यश प्राप्त नहीं होता है।* *हरि ॐ,प्रणाम, जय सीताराम।
0 votes
नरत्वं दुर्लभं लोके विद्या तत्र सुदुर्लभा। शीलं च दुर्लभं तत्र विनयस्तत्र सुदुर्लभः॥ To born as human is rare in this world. To be knowledgeable also is even rarer. To have great character is even more rare . To be humble is the rarest of all. *पृथ्वी पर मनुष्य जन्म मिलना दुर्लभ है, उनमें भी विद्या युक्त मनुष्य मिलना और दुर्लभ है, उनमें भी चरित्रवान मनुष्य मिलना दुर्लभ है और उनमें भी विनयी मनुष्य मिलना और दुर्लभ है।* हरि ॐ,प्रणाम, जय सीताराम।
0 votes
गुणवान् वा परजन: स्वजनो निर्गुणोपि वा निर्गुण: स्वजन: श्रेयान् य: पर: पर एव च || A friend, even without many good qualities, is better than an enemy with good qualities. After all enemy is enemy. *गुणवान शत्रु से भी गुणहीन मित्र अच्छा| शत्रु तो आखिर शत्रु है|* हरि ॐ,प्रणाम, जय सीताराम।
0 votes
नमन्ति फलिता वृक्षा नमन्ति च बुधा जनाः। शुष्ककाष्ठानि मूर्खाश्च भिद्यन्ते न नमन्ति च॥ Trees with fruits bend, wise people become humble but dry wood and fool do not bend even when they are cut. *फले हुए वृक्ष झुक जाते हैं और बुद्धिमान लोग विनम्र हो जाते हैं पर सूखी लकड़ी और मूर्ख काटने पर भी नहीं झुकते॥* हरि ॐ,प्रणाम, जय सीताराम।
Dear friends, futurestudyonline given book now button (unlimited call)24x7 works , that means you can talk until your satisfaction , also you will get 3000/- value horoscope free with book now www.futurestudyonline.com
...