top button
    Futurestudyonline Community

गुरु पूर्णिमा 2020

0 votes
88 views
5 जुलाई, गुरु पूर्णिमा तिथि प्रारंभ – 11:35:57 बजे, 4 जुलाई 2020 से गुरु पूर्णिमा तिथि समाप्त – 10:16:08 बजे, 5 जुलाई 2020 तक नोट: 5 तारीख को गुरु पूर्णिमा के साथ साथ उपच्छाया चंद्र ग्रहण भी लग रहा है| चंद्रग्रहण का समय सुबह 8:38 पर शुरू होगा और सुबह 11:21 पर खत्म हो जाएगा। हालांकि, चूंकि इस प्रकार के चंद्र ग्रहण को वैदिक ज्योतिष में ज्योतिषीय घटना के रूप में मान्यता नहीं दी गई है, इसलिए कोई सूतक काल नहीं देखा जाएगा। इसलिए, जातक गुरु पूर्णिमा की पूजा विधि और अनुष्ठान बिना हिचक कर सकते हैं। गुरु पूर्णिमा पूजन विधि गुरु पूर्णिमा के दिन देश के कई मंदिरों और मठों में गुरुपद पूजन किया जाता है। हालाँकि अगर आपके गुरु अब आपके साथ नहीं हैं या वो दिवंगत हो गए हो तो भी आप इस तरह से गुरु पूर्णिमा के दिन उनका पूजन कर सकते हैं। गुरु पूर्णिमा के दिन सुबह स्नान आदि करें और उसके बाद घर की उत्तर दिशा में एक सफेद कपड़ा बिछाकर उसपर अपने गुरु की तस्वीर रख दें। इसके बाद उन्हें माला चढ़ाएं और मिठाई का भोग लगाएं। इसके बाद उनकी आरती करें और जीवन की हर एक शिक्षा के लिए उनका धन्यवाद दें और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करें। इस दिन सफेद रंग के या फिर पीले रंग के वस्त्र पहनकर पूजा करना शुभ माना गया है। इस दिन की पूजा में अवश्य शामिल करें गुरु मंत्र। गुरुर्ब्रह्मा ग्रुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः। गुरुः साक्षात् परं ब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः॥ इस मंत्र का अर्थ है कि, “गुरु ब्रह्मा हैं, गुरु विष्णु हैं, गुरु हि शंकर हैं; गुरु हि साक्षात् परब्रह्म हैं; उन सद्गुरु को प्रणाम । वैसे गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु पूजन की यह विधि वो लोग भी अपना सकते हैं जो अपने गुरु से किसी कारणवश दूर रहते हो, या फिर किसी कारण से वो अपने गुरु के पूजन-वंदन को नही जा सकते हैं। हाँ लेकिन अगर आप गुरु का पूजन वंदन करने जा रहे है तो अपने गुरु के पैर पर फूल चढ़ाएं, उनके मस्तिष्क पर अक्षत और चंदन का तिलक लगायें, और उनका पूजन कर उन्हें मिठाई या फल भेंट करें। उनका शुक्रिया-अदा करें और उनका आशीर्वाद लें। गुरु नहीं हैं तो भगवान विष्णु को मानें अपना गुरु वैसे तो ऐसा मुमकिन ही नहीं है कि किसी भी इंसान का कोई गुरु नहीं हो लेकिन मान लीजिये कि किसी कारणवश आपके जीवन में कोई गुरु नहीं हैं तो आप गुरु पूर्णिमा के दिन क्या कर सकते हैं? सबसे पहले तो ये जान लीजिये कि हर गुरु के पीछे गुरु सत्ता के रूप में शिव जी को ही माना गया है। ऐसे में अगर आपका कोई गुरु नहीं हों तो इस दिन शिव जी को ही गुरु मानकर आपको गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाना चाहिए। आप भगवान विष्णु को भी गुरु मान सकते हैं। इस दिन की पूजा में भगवान विष्णु, जिन्हें गुरु का दर्जा दिया गया है या भगवान शिव की ऐसी प्रतिमा लें जिसमें वो कमल के फूल पर बैठे हुए हों। उन्हें फूल, मिठाई, और दक्षिणा चढ़ाएं।

References

गुरु पूर्णिमा 2020
posted Jul 5 by Deepika Maheshwary

  Promote This Article
Facebook Share Button Twitter Share Button Google+ Share Button LinkedIn Share Button Multiple Social Share Button

Related Articles
0 votes
6 जुलाई से सावन का महिना शुरू गया है भोलेनाथ को ये महिना अति प्रिय है इस दिन देवो के देव महादेव यानी भगवान् शिव और माता पार्वती की पूजा अर्चना की जाती है और इनकी पूजा अत्यन्य फलदायी होती है इस वार सावन के महीने में 5 सोमवार होंगे यानि सावन 6 जुलाई से शुरू होकर 3 अगस्त को ख़त्म होगा ! ऐसा माना जाता है कि सावन के महीने में भगवान् शिव की पूजा करने से जीवन के कष्टों से निवारण मिलता है ! सच्चे मन से भगवान् शिव की आराधना करने से मन वांछित फल मिलता है ! सावन का व्रत शुरू करने की विधि सोमवार का व्रत सूर्य उदय से शुरू होकर तीसरे प्रहार तक होता है, दिन में एक समय हो भोजन करना चाहिए, नमक नहीं खाना चाहिए ! ब्रह्म मुहूर्त में उठ कर, घर की सफाई करें, फिर स्नान आदि करके घर में गंगाजल का छिडकाव करें ! उसके बाद व्रत का संकल्प ले और भगवान् शिव और देवी पार्वती की पूजा करनी चहिये ! शिव चालीसा का पाठ करें ! निम्न में से किसी भी मंत्र का 7, 11, 21 माला का उच्चारण करे, शिवलिंग में जल चढ़ाये, बेल पत्र, भांग चन्दन आधी चढ़ाये ! ॐ नमः शिवाय ॐ जूं स : ॐ ह्रीं नमः शिवाय शाम को सूर्य उदय पश्चात् भगवान् शिव की धुप द्वीप और चन्दन से पूजा करें ! पूजा के पश्चात् कथा सुने, आरती करने के वाद भगवान् शिव और देवी पारवती को भोग लगाये, आरती का प्रसाद वितरण करने के पश्चात ही भोजन ग्रहण करें ! इस तरह से पहले सोमवार से सावन के आखरी सोमवार तक व्रत का पालन करना चाहिए ! माना जाता है कि सावन के महीने में आने वाले सोमवार के व्रत करने से इसका फल 16 सोमवार के फल के बराबर मिलता है ! जो भी भक्त सच्चे मन से सावन का व्रत रखता है और विधि अनुसार पूजा करता है उसे मन वांछित फल प्राप्त होता है ! सावन के व्रत में न करे ये काम सावन के व्रत के दिन झूठ नहीं बोलना चाहिए, गुस्सा नही करना चाहिए, बुरे विचार मन में नहीं लाने चाहिए और किसी के लिए मुख से अपशव्द नहीं कहने चाहिए ! ब्रह्मचार्य का पालन करना चाहिए, अनैतिक कार्य से दूर रहे ! शाश्त्रो के अनुसार बैंगन को अशुद्ध मन जाता है इसलिए इस महीने बैंगन खाने से परहेज़ करें ! मांस मदिरा का सेवन आदि न करें इससे आपको जीव हत्या का पाप लगता है साथ ही मन में अशांति बनती है ! पेड़ पौधों को तोड़ने से पाप लगता है !
0 votes
*ज्योतिष में कुछ महत्वपूर्ण योग विचार* : #रवि_योग : जन्म कुण्डली में निम्न ग्रह योग रवि योग बनाते हैं : * #वेषी_योग : सूर्य से द्वितीय भाव में चन्द्रमा के इलावा कोई भी ग्रह हो तो यह योग बनता है , ऐसा जातक कम भौतिक सुख के होते हुए भी प्रसन्न चित रहते हुए खुशी से रहता है । * #वोशी_योग : सूर्य से द्वादश भाव में चन्द्रमा के इलावा कोई भी ग्रह हो तो यह योग बनता है, ऐसा जातक अच्छा विद्यार्थी, दान - पुण्य करने वाला, किसी ना किसी गुण और कला के चलते प्रतिष्ठा प्राप्त करने वाला होता है । * #उभाचार्य_योग : सूर्य से द्वितीय और द्वादश भावो में चन्द्रमा के इलावा अन्य ग्रह हो तो यह योग बनता है, ऐसा जातक सभी तरह के भौतिक सुख सुविधाओं को भोगने वाला होता है । * #बुधादित्य_योग : सूर्य और बुध एक ही राशि में होने पर यह योग बनता है, ऐसा जातक अपने कार्यो में निपुण होता है , और बेहतर कार्यो की वजह से समाज में प्रतिष्ठा प्राप्त करता है , यह योग दशमांश कुण्डली में बन रहा हो तो बेहतर फल देता है । #चन्द्र_योग : जन्म कुण्डली में निम्न ग्रह योग चन्द्र योग बनाते हैं : * #सुफ़ना_योग : चन्द्रमा से द्वितीय भाव में सूर्य के इलावा कोई भी ग्रह हो तो यह योग होता है , ऐसा जातक अच्छी सोच समझ रखने वाला, सम्मानित , खुद से धनार्जन करने वाला होता है । * #अफना_योग : चन्द्रमा से द्वादश भाव में सूर्य के इलावा कोई भी ग्रह हो तो यह योग होता है, ऐसा जातक उच्च अधिकारी , रोग से रहित, भौतिक सुख भोगने वाला होता है । * #दुर्धरा_योग : चन्द्रमा से द्वितीय एवं द्वादश भावो में सूर्य के इलावा कोई भी ग्रह हो तो यह योग होता है, ऐसा जातक धनी, दान पुण्य करने वाला, सभी तरह के भौतिक सुख प्राप्त करने वाला होता है । * #केमद्रुम_योग : चन्द्रमा से युति कोई ग्रह ना करे और ना ही द्वितीय एवं द्वादश भावो में कोई ग्रह हो तो यह योग होता है , ऐसा जातक दुर्भाग्य , दरिद्र , असफलता से परेशान होता है । * #चंद्र_मंगल_योग : चंद्र मंगल युति होने पर यह योग होता है, ऐसा जातक भौतिक सुखों को प्राप्त करता है, धनी होता है लेकिन माता से कष्ट प्राप्त करता है । * #आदि_योग : चन्द्रमा से 6, 7, 8वे भाव में नैसर्गिक शुभ ग्रह होने पर यह योग बनता है, ऐसा जातक साहसी, जोखिम भरे कार्य करके सफलता प्राप्त करने वाला होता है । #महापुरुष_योग : ज्योतिष अनुसार निम्न 5 ग्रहों से बनने वाले योग को महापुरुष योग कहा जाता है : * #रूचक_योग : जन्म लग्न कुण्डली के केंद्र भाव ( 1, 4, 7, 10 ) में मंगल अपनी या उच्च राशि में हो तो यह योग होता है, ऐसा जातक विद्वान लोगो की संगत करने वाला, जोखिम भरे कार्य में भी सफल होने वाला, शत्रु पर विजय प्राप्त करने वाला , भाई एवं मित्रों से सुख प्राप्त करने वाला होता है । * #भद्र_योग : जन्म लग्न कुण्डली के केंद्र भाव ( 1, 4, 7, 10 ) में बुध अपनी या उच्च राशि में हो तो यह योग होता है, ऐसा जातक सगे संबंधी एवं मित्रों से सुख प्राप्त करने वाला, वाणी से दुसरों को प्रभावित करने वाला, धार्मिक एवं धनी होता है । * #शश_योग : जन्म लग्न कुण्डली के केंद्र भाव ( 1, 4, 7, 10 ) में शनि अपनी या उच्च राशि में हो तो यह योग होता है, ऐसा जातक दान पुण्य एवं परूपकार करते हुए सुख प्राप्त करने वाला, समाज भलाई के कार्य करने वाला, प्रकृति से प्रेम करने वाला, तकनीकी विषयो की शिक्षा प्राप्त करके सफल होता है । * #मालव्य_योग : जन्म लग्न कुण्डली के केंद्र भाव ( 1, 4, 7, 10 ) में शुक्र अपनी या उच्च राशि में हो तो यह योग होता है, ऐसा जातक कला में निपुण, भौतिक सुख भोगने वाला, अच्छे अच्छे वस्त्र एवं भोजन का भोग करने वाला होता है । * #हंस_योग : जन्म लग्न कुण्डली के केंद्र भाव ( 1, 4, 7, 10 ) में गुरु अपनी या उच्च राशि में हो तो यह योग होता है, ऐसा जातक समाज में सम्मानित, कार्यो में निपुण, विद्वान एवं धार्मिक होता है । #राज_योग : जन्म कुण्डली में निम्न ग्रह योग होने पर जातक राजा के समान सुख भोगता है : * लग्नेश एवं पंचमेश की युति साथ ही पुत्र कारक एवं आत्म कारक ग्रहो की युति हो तो राजयोग होता है , ऐसा जातक संतान प्राप्ति के बाद से तरक्की करता है , राजा एवं मंत्री पद को प्राप्त होता है राजसिक सुख भोगता है । * आत्म कारक ग्रह एवं भाग्येश की युति हो इन पर शुभ ग्रह की दृष्टि हो तो भी राजयोग होता है । * द्वितीयेश, सुखेश , पंचमेश एवं आत्म कारक ग्रह शुभ ग्रह की राशि में हो तो राजयोग होता है । * त्रितयेश, षष्ठेश एवं आत्म कारक ग्रह अशुभ ग्रह की राशि में हो तो राजयोग होता है । * घटी लग्न एवं होरा लग्न का एक ही ग्रह के द्वारा दृष्ट होना राजयोग देता है । * घटी लग्न एवं होरा लग्न के स्वामी ग्रह अपनी / उच्च राशि में हो तो राजयोग होता है । * पंचमेश एवं भाग्येश की युति हो और शुभ ग्रहों से दृष्ट हो राजयोग देती है । * दशमेश चतुर्थ में , चतुर्थ का स्वामी ग्रह दसम भाव में हो , साथ में पंचमेश / भाग्येश से दृष्ट हो तो राजयोग होता है । * जन्म कुण्डली में 4 ग्रह उच्च या अपनी राशि में हो तो जातक राजा के समान सुख भोगता है । * जन्म कुण्डली के केंद्र भाव में शुभ ग्रह हो और 3, 6, 11वे भाव में अशुभ ग्रह हो तो भी राजयोग होता है । * पंचमेश 1, 4, 10वे भाव में हो एवं लग्नेश , भाग्येश से युति करे तो भी राजयोग होता है । * जन्म कुण्डली में चन्द्रमा बलि हो एवं वर्गोत्तम हो तो भी राजयोग होता है । #धन_योग : जन्म कुण्डली में निम्न ग्रह योग होने पर जातक धन संपदा के सुख भोगता है : * द्वितीयेश एवं लाभेश में राशि परिवर्तन योग होने पर धन योग होता है । * द्वितीयेश का संबंध 4 / 5 / 7/ 9 / 10वे भाव के स्वामी ग्रह से बने तो पारिवारिक धन संपदा से धनी होता है । * एकादश के स्वामी ग्रह का संबंध 4 / 5 / 7 / 9 / 10वे भाव के स्वामी ग्रह से बने तो खुद की आय से धनी होता है । * पंचमेश / भाग्येश के द्वितीय एवं एकादश भाव में होने पर धन योग होता है । * चतुर्थ / सप्तम / दसम के स्वामी ग्रह का द्वितीय एवं एकादश भाव में होने पर धन योग होता है । * चन्द्र / गुरु / शुक्र शुभ राशि के होकर द्वितीय एवं एकादश भावों से संबंधित हो तो भी धन योग होता है । #दरिद्र_योग : जन्म कुण्डली में निम्न ग्रह योग होने पर जातक गरीबी एवं दरिद्रता से पीड़ित होता है * लग्नेश का 6 / 8 / 12वे भाव में होकर मारक ग्रहो से संबंधित होना । * द्वितीयेश का 12वे भाव में पापी / मारक ग्रहों के बीच होना । * लग्नेश / सूर्य / चन्द्रमा का संबंध पापी / मारक ग्रहो से होना । * पंचमेश / भाग्येश का 6 / 8 / 12वे भाव में होकर मारक ग्रहो से संबंधित होना । * द्वितीय, चतुर्थ एवं एकादश भावों को नैसर्गिक अशुभ ( शनि, मंगल, राहु ) ग्रहों द्वारा देखा जाना । * पंचमेश एवं सप्तमेश का 6 / 8/ 12वे भावों में होकर अशुभ ग्रहों से दृष्ट होना । * भाग्येश एवं दशमेश का 6 / 8 / 12वे भावों में होकर अशुभ ग्रहों से दृष्ट होना ।
0 votes
5 जून से 5 जुलाई 2020 के बीच मे तीन ग्रहण है l एक महीने में तीन ग्रहण , दो चंद्र ग्रहण , एक सूर्य ग्रहण l जब कभी एक महीने में तीन से ज्यादा ग्रहण आ जाये तो एक चिंता का विषय बनता है l 5 जून 2020 चंद्रग्रहण प्रारंभ रात 11:15 मिनिट समाप्ति 6 जून सुबह 2:34 चंद्र ग्रहण जिसमे शुक्र वक्री और अस्त रहेगा गुरु शनि वक्री रहेंगे तो तीन ग्रह वक्री रहेंगे, जिसके कारण जिसके प्रभाव भारत की अर्थव्यवस्था पर होगा। शेयर बाजार से जुड़े हुए लोग सावधान रहें। यह ग्रहण वृश्चिक राशि पर बहोत बुरा प्रभाव डालेगा। 21 जून 2020 सूर्य ग्रहण, एक साथ छ ग्रह वक्री रहेंगे बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु, केतु यह छह ग्रह 21 जून 2020 को वक्री रहेंगे। 5 जुलाई 2020 चंद्रग्रहण एक बहुत बड़ा परिवर्तन l मंगल का राशि परिवर्तन, सूर्य का राशि परिवर्तन, गुरु धनु राशि मे वापस, लेकिन वक्री रहेंगे। शुक्र मार्गी l
Dear friends, futurestudyonline given book now button (unlimited call)24x7 works , that means you can talk until your satisfaction , also you will get 3000/- value horoscope free with book now www.futurestudyonline.com
...