top button
    Futurestudyonline Community

Ashtakvarg aur sadesati

+1 vote
460 views
Shani jab bhi chandrama se 45 degree angel aur piche gochar karta hai to jatak ke upper Shani ka parbhav kafi hota hai. Kuchh case me dekha gaya hai ki sade sati shush fal bhi dete hai...Jabki kuchh logon ke like kashtkari hota hai. Aisa is like kyonki kuchh lagna ke liye shubh hote hai .. Lekin aahtakvarg ke Anusar agar shubh bindu moon se 12th,1st aur 2nd me 28 se jayada ho aur shani ko in teeno rashi me shubh bindu zyada mile ho to utna kastkari nahi hota hai.

References

Ashtakbar6in jyotish
posted Aug 1 by Chandan Singh

  Promote This Article
Facebook Share Button Twitter Share Button Google+ Share Button LinkedIn Share Button Multiple Social Share Button

Related Articles
0 votes

                                                    SEVEN MUKHI RUDRAKSHA BENEFITS

  

We all know more or less the benefits of Rudraksha .There are many types of Rudraksha beads available. But today I will write the benefits of seven mukhi  Rudraksha.  Seven mukhi rudraksha has seven natural lining on it’s face.

The ruling planet of seven faced Rudraksha is planet Saturn If anyhow Saturn is weak in horoscope, seven mukhi Rudraksha helps in removing all the negative effects created by Saturn. People who are the victim of Sadesati, Saturn Mahadasha or Dhaiya should wear seven mukhi rudrksha to make that tough period easy. Saturn is the planet of obstacle, delay,long terms diseases. As such this seven mukhi beads has ability to remove all those negativities. This bead cures long term Saturn related disease like asthma, impotency, mental stress, paralysis, and any sort of bone & muscles diseases.

 

The deity of if this rudraksha is Mahalaxmi, the goddess of wealth. It attracts prosperity, good fortune , new opportunities .Hence people who are suffering from monetary problem, misfortune etc immediately wear avimantrit seven mukhi rudraksha in black thread to remove all the hassles of life.

This bead is also significator of snakes, the person suffering from Kalsarpa dosha can wear seven mukhi Rudraksha to get relief from kalsarpa dosha too.

In the name of Goddess Mahalaxmi

Vaswati Baksiddha

 

0 votes
जन्म कुण्डली में मंगल और शुक्र उच्च राशि में हो, शनि व बृहस्पति त्रिकोण भाव में हो और लग्न में 40 से अधिक बिन्दु स्थित हो तब इसे राजयोग माना जाता है. यदि लग्न, चन्द्र लग्न और सूर्य लग्न तीनो में ही 30 बिन्दु स्थित है तब व्यक्ति अपने प्रयासों से जीवन में उन्नति करता है और आगे बढ़ता है. यदि सूर्य और बृहस्पति अपनी-अपनी उच्च राशियों में 30 बिन्दुओ के साथ स्थित है और लग्न के बिन्दुओ की संख्या, अन्य भावों के बिन्दुओ से अधिक है व्यक्ति राजा के समान जीवन जीने वाला होता है. जन्म कुण्डली के चतुर्थ और एकादश दोनो भावों में प्रत्येक में 30-30 बिन्दु हो तब व्यक्ति 40 वर्ष की उम्र में समृद्ध होता है. जन्म कुण्डली के लग्न, चन्द्र राशि, दशम और एकादश भाव में प्रत्येक में 30-30 बिन्दु हो और लग्न अथवा चंद्रमा, बृहस्पति से दृष्ट हो तब ऎसा व्यक्ति राजा के समान माना गया है. जन्म कुण्डली में मंगल तथा शुक्र अपनी-अपनी उच्च राशियों में हों, शनि कुंभ्ह में हो और बृहस्पति धनु राशि में 40 बिन्दुओ के साथ लग्न में हो तब इसे राजयोगकारी माना गया है. जन्म कुण्डली में उच्च का सूर्य लग्न में और चतुर्थ भाव में बृहस्पति 40 बिन्दुओ के साथ हो तब यह स्थिति भी राजयोगकारी मानी गई है. जन्म कुण्डली में शुभ ग्रह केन्द्र अथवा त्रिकोण में स्थित हों और उनसे संबंधित सर्वाष्टकवर्ग के भावों में प्राप्त बिन्दुओ की संख्या द्वारा इंगित आयु का समय जातक के लिए अच्छा माना गया है. पति-पत्नी की जन्म कुण्डलियों में एक-दूसरे की चंद्र राशि में 28 बिन्दु से अधिक होने पर वैवाहिक जीवन अच्छा होता है
Dear friends, futurestudyonline given book now button (unlimited call)24x7 works , that means you can talk until your satisfaction , also you will get 3000/- value horoscope free with book now www.futurestudyonline.com
...